Tuesday, July 27, 2010

दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स 2010 (1)

भारत में बहुत महत्वपूर्ण और प्रशंशिय खेलों का आयोजन हो रहा है (दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स 2010). भारत की छवि को हमें और बेहतरीन तरह से दुनिया के सामने प्रस्तुत करने के इस अवसर को उपयोग करना चाहिए.


सन्देश:

प्रत्येक नागरिक को सभी की सहायता करनी होगी और रक्षक पुलिस कर्मियों को बेकार की उलझनों में न फंसाकर अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए उनकी सहायता करनी होगी जिससे वे अपने कार्य को सावधानी से कर सके.

भारतीय नागरिकों का यह फर्ज है कि अपने देश में होने वाली अंतरराष्ट्रीय गतिविधियों में सरकार के द्वारा जारी किये गए निर्देशों का पालन करें.

महत्वपूर्ण कार्य, असाधारण गतिविधियों की सूचना सुरक्षा एजेंसियों तक पहुँचाना, जिससे सुरक्षा बनी रहे.

व्यवहार नरम रखना है जिससे विदेशी नागरिकों के सामने प्रत्येक भारतीय की एक बेहतरीन छवि बने.

यातायात के नियमों का पालन सर्वोपरि होना चाहिए, जिससे रास्तों में अवरोध उत्पन्न ना हो.

दिल्ली नगर निगम और एन.डी.एम.सी.विभाग के कर्मचारियों को अपने कार्यों में निपुणता का प्रदर्शन करना होगा (जगह - जगह पर पानी न भरा हो, सफाई और इत्यादि).


कर्मचारियों के साथ साथ नागरिको को भी देश की छवि के प्रति जिम्मेदारी निभाने के लिए तत्पर रहना चाहिए.

25 comments:

Puneet said...

हरीश जी,
जगत रस का ब्लॉग जगत में स्वागत है
आपका यह प्रयास अति उत्तम है कि भारत की छवि को हमें बेहतरीन ढंग से प्रस्तुत करना चाहिए..

Saahil said...

आपका यह प्रयास अति उत्तम है

Suvendu Panda said...

बहुत सही कहा है आपने साथ मिलकर यह प्रयास रंग लायेगा ..

MLA said...
This comment has been removed by the author.
MLA said...

उत्तम प्रयास

sajid said...

बहुत अच्छा प्रयास आप का नए ब्लॉग के साथ स्वागत है !

Mamta said...

कर्मचारियों के साथ साथ नागरिको को भी देश की छवि के प्रति जिम्मेदारी निभाने के लिए तत्पर रहना चाहिए...
उच्च विचार !

Raji Kumar said...

क्या बात है सर बहुत बढ़िया !

madhu said...

सबसे छोटा और महत्वपूर्ण काम कि दिल्ली को स्वच्छ रख्खे और धुम्रपान करने वालों से निवेदन है कि वाऊ को प्रदूषित न करें और कूड़ा जगह - जगह ना फैकें .

Samaj said...

इसी तरह के प्रयासों से जनता जगती है
स्वागत है !

Pawan Kumar said...

ममता जी ने बिलकुल सही कहा है
सर्वोतम!

A Indian said...

अच्छी सोच आप का स्वागतम
आभार...

Shah Nawaz said...

वाह हरीश जी, बहुत काम की बातें लिखी हैं आपने, आज यह आवश्यकता है कि समाज को भारत के छवि के प्रति शिक्षित किया जाए.

एक अछे लेख के साथ आपके इस नए ब्लॉग का बहुत-बहुत स्वागत है.

दीपक 'मशाल' said...

mujhe nahin lagta ki in khelon se desh ya naagrikon ko koi faayda hoga.. NDTV par Mani Shankar ji aur Dunu Roy ji ki baat suniye.. pata chalega kitna ghotala hai..
is sab se jitna karza chadha hai wo agle 30-40 saal me to nahin chuk paayega.. aur ye neta nahin hamen hi utarna hoga.

हरीश कुमार तेवतिया said...

दीपक जी मैं आपकी भावनाओं को समझ गया हूँ आप सही कह रहे है लेकिन नेता और नागरिक में अगर नेता अपना कर्तव्य सही से नहीं कर रहे तो नागरिकों को आगे बढकर अपने कर्तव्यों को समझना चाहिए.

इसी पर मेरा एक ब्लॉग आप देख सकते हैं

http://pareesthiti.blogspot.com/2010/07/blog-post_26.html

राकेश कौशिक said...

"कर्मचारियों के साथ साथ नागरिको को भी देश की छवि के प्रति जिम्मेदारी निभाने के लिए तत्पर रहना चाहिए"

सच्ची और सही सोच - जो होगा वो तो होगा ही लेकिन एक सच्चे नागरिक का सच्चा कर्त्तव्य यही होगा

Saurabh said...

कॉमन वेल्थ गेम्स देश, अर्थव्यवस्था और आम आदमी के लिए अच्छे हैं या नहीं इस बात का अभी कोई मतलब नहीं है. यह विचार तब होना चाहिए था जब इन खेलों के लिए आवेदन किया जा रहा था. अब जब यह खेल होने में कुछ ही महीने रह गए हैं तो बात अपने देश की साख की है और सबका कर्त्तव्य है कि सरकार और कमेटी का समर्थन करें.

Prabodh Kumar Govil said...

bahut saf drashtikon se abhivyakt hote hain aap.mere blog -kehna padta hai par aaiye kabhee.

Rajeev Bharol said...

बिलकुल सही कहा है.
ब्लॉगजगत में स्वागत है.

honesty project democracy said...

आपने जो विचार सुझाये हैं वो काफी अच्छे हैं लेकिन जमीनी हकीकत यह है की इस गेम के नाम पर भ्रष्टाचार के गेम ने पूरी दिल्ली को बरबाद करने का काम किया है और उस बरबादी से निकला दुर्गन्ध तो दिल्ली में रहने वालों से लेकर आने वाले को महसूस हो रहा है और होता रहेगा | पूरी मानवीय व्यवस्था इस गेम के नाम पर सडा दिया है इन बेशर्म और भ्रष्ट नेताओं ने |

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

आपके विचार काबिले तारीफ हैं।
--------
सावन आया, तरह-तरह के साँप ही नहीं पाँच फन वाला नाग भी लाया।

Ravi said...

Great Dude Great

अजय कुमार said...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

E-Guru Rajeev said...

वाह बहुत सही.
बेहतरीन, अगले भाग के लिए प्रतीक्षारत हूँ.

संगीता पुरी said...

इस सुंदर से नए चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!